रुड़की/समाचार


रिपोर्ट-तलत परवीन


समाज उत्थान समिति (रजि.) रूडकी द्वारा (स्वतंत्रता की 75 वीं वर्षगांठ) धूमधाम के साथ मनाई गयी। इस अवसर पर समाज उत्थान समिति के अध्यक्ष नदीम मलिक व सहसचिव नौशाद अली ने कहा की स्वतंत्रता की मांग को लेकर कई स्वतंत्रता सेनानियों ने आवाज उठाई और अंत में 15 अगस्त 1947 को हिंदुस्तान एक स्वतंत्र राष्ट्र बन गया। इस दिन को हर साल स्वतंत्रता दिवस के तौर पर मनाया जाता है। लेकिन केवल भारत ही नहीं, 15 अगस्त को कई और देशों में भी स्वतंत्रता दिवस का जश्न मनाते हैं। इसकी वजह है कि 15 अगस्त के दिन भारत के अलावा कुछ अन्य देश भी आजाद हुए थे। इसी मोके पर 

कोषाध्यक्ष अब्दुल जब्बार ने कहा कि 15 अगस्त की तारीख भारत के लिए एक बड़ा राष्ट्रीय पर्व है। इतिहास के पन्नों में 15 अगस्त देश की सबसे बड़ी जीत, उपलब्धि के तौर पर शामिल है। वही पूर्व सांसद राजेंद्र बाड़ी व कांग्रेस ने सचिन गुप्ता ने कहा कि इतिहास के पन्नों में 15 अगस्त देश की सबसे बड़ी जीत, उपलब्धि के तौर पर शामिल है। इस दिन देश को अंग्रेजों से आजादी मिली थी और भारत स्वतंत्र हो गया था ओर 15 अगस्त को भारत के सभी धर्मों के लोग मिलकर बड़े जशन के साथ मिलजुल कर मनाते है। इस मोके पर सय्यद सनाउल हक, शमशुल हसन, इरफ़ान, मुदस्सीर, सलीम, असलम, नौशाद, साहिल, इस्लाम ठेकेदार भोला, शेरखान, अब्बास, सुलेमान आदि लोग मौजूद रहे।