➡️रुक-रुक कर हो रही बारिश से गिरा मकान खुले आसमान के नीचे आया परिवार


➡️पीड़ित परिवार का आरोप है कि बार बार आवेदन करने के बाद भी नहीं मिल पाया कोई लाभ



मुज़फ्फराबाद/सहरानपुर


तहसील बेहट के जमालपुर में मंगलवार को रुक-रुक कर हो रही बारिश से अमजद पुत्र अब्दुल सलाम का टीन से  बना कच्चा मकान बारिश के चलते भरभरा कर गिर गया सौभाग्य रहा कि उस समय घर के अंदर बच्चे नहीं थे अमजद की पत्नी अंदर बैठी हुई थी जैसे ही मकान की दीवार गिरी वह तुरंत बाहर निकल गई तभी अचानक कड़ियों सहित पूरी टीम नीचे आ गई उस समय बच्चे बाहर थे नहीं तो बड़ा हादसा भी हो सकता था पीड़ित अमजद का कहना है कई बार अधिकारियों से गुहार लगा चुका हूं अभी कुछ दिन पूर्व बेहट तहसील दिवस में भी प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए अधिकारियों को प्रार्थना पत्र के माध्यम से आवास की मांग की थी 2 दिन के बाद जांच के लिए आए अधिकारियों ने जांच कर पीड़ित को यह कहकर चले गए आप पात्र नहीं हैं अब सवाल यह उठता है कि पात्र लोगों को अधिकारी अपात्र बता रहे हैं इस योजना का लाभ अपात्र लोगों को ज्यादा मिलता है पात्र वंचित रह जाते हैं क्या इस परिवार के साथ कोई अनहोनी हो जाती कोई बड़ा हादसा हो जाता इसका जिम्मेदार कौन होता पीड़ित परिवार की आर्थिक स्थिति बहुत कमजोर है जैसे कैसे करके परिवार चलाता है इतनी हिम्मत नहीं है जो पक्का मकान बना सकें परिवार का एक सपना है की हमारे घर पर भी छत हो हिम्मत न होने की वजह से  अधूरा हे इसकी जानकारी पीड़ित जैसे ही हल्का लेखपाल को  वह तुरंत जांच के लिए पीड़ित के घर पहुंचे और परिवार से वायदा किया की सरकार से हर संभव मदद दिलाई जाएगी