इलाके में दौड़ी शोक की लहर 

मौलाना मुकर्रम हुसैन संसारपुरी ने पढ़ाई जनाजे की नमाज


बेहट/सहारनपुर


कोतवाली  बेहट के नियामतपुर में मदरसा अनवारुल कुरान के प्रबंधक  मुंशी अब्दुल गफूर का सोमवार की सुबह अचानक निधन होने से इलाके में शोक की लहर दौड़ गई और यह खबर आग की तरह फैल गई दूर दूर से आए मेहमानों ने जनाजे की नमाज में शिरकत की मुंशी जी का कार्यकाल मदरसे में करीब  60 साल रहा! 

उन्होंने शिक्षा की शुरुआत संसारपुर गांव से की उसके बाद रायपुर मैं शिक्षा हासिल की मुंशी जी को उर्दू से बड़ा लगाव था उन्होंने उर्दू जबान की तीसरी व पांचवीं मौलाना इस्माइल की लिखी हुई किताब का उर्दू भाषा में ट्रांसलेट भी किया था और उनको गणित में भी बहुत महारत हासिल थी दूसरे मदरसों वाले शिक्षक भी उनको अपने हिसाब किताब की जाँच के लिए बुलाया करते थे वह बहुत एक्सपर्ट थे जानकारी के अनुसार सोमवार की सुबह नमाज के लिए उठे थे वजू करके उनको चक्कर आया और नीचे गिर गए  तभी उनका इंतिकाल हो गया मदरसे के शिक्षकों में अफरा तफरी मच गई और यह खबर इलाके में आग की तरह दौड़ गई सुबह से ही लोगों का इकट्ठा होना शुरू हो गया उनकी जनाजे की नमाज मदरसे में मौलाना मुकर्रम हुसैन संसारपुरी ने पढ़ाई हजारों  लोग नमाज में उपस्थित रहे मुंशी जी के परिवार में मौलाना रियाज जोकि  रायपुर मदरसे में कुरान व हदीस के वरिष्ठ शिक्षकों में गिने जाते हैं मुंशी जी के जनाजे में  उलमा वह राजनीतिक लोगों ने बड़ी तादाद में  शिरकत की हाफिज अब्दुल सत्तार मौलाना अतहर हसन मौलाना मोहम्मद अख्तर मोहतमिम जामिया मुफ्ती सलीम  मौलाना अमजद अली बीएसपी नेता अब्दुल कुददूस   सपा नेता उमर अली खान वह अन्य मदरसों के शिक्षक वो प्रबंधक आदि मौजूद रहे