✍अफजल अली बेहट 


बेहट/सहारनपुर

बुधवार को विकासखंड पुवारका के  ग्राम मोहिद्दीनपुर एवं  बड़कला में पंजाब नैशनल बैंक ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान माटकी झरौली द्वारा स्वयं सहायता समूह की महिलाओं के स्वरोजगार स्थापना हेतु  प्रशिक्षण एवं वित्तीय जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया।दोनों कार्यक्रमों में  स्वयं सहायता समूह की लगभग 125  महिलाओं ने हिस्सा लिया और शिविर का लाभ उठाया।

इस दौरान आरसेटी के प्रशिक्षक अमित कुमार चौबे ने कहा कि भारत सरकार महिलाओं की आत्मनिर्भरता हेतु प्रयासरत है महिलाओं का दायित्व है कि उन योजनाओं का लाभ उठाएं इसके साथ ही स्वयं सहायता समूह के पंच  सूत्र और प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम, मुख्मत्री रोजगार योजना, अटल पेंशन योजना, जीवन सुरक्षा बीमा योजना जीवन ज्योति बीमा योजना, एवं नाबार्ड की सब्सिडी वाली योजनाओं की विस्तारपूर्वक जानकारी दी गयी। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन आपके स्वावलंबन के लिए प्रयासरत है। ग्रामीण विकास मंत्रालय भारत सरकार के निर्देशानुसार  जनपद मे माटकी झरोली में निशुल्क प्रशिक्षण संस्थान की स्थापना की गई है।आरसेटी द्वारा स्वयं सहायता समूह के परिवारों  एवं ग्रामीण बेरोजगारों के आत्मनिर्भरता के लिए 60 प्रकार के निःशुल्क आवासीय प्रशिक्षण कार्यक्रम जैसे मशरूम उत्पादन, बैग मेकिग, बकरी पालन, सुअर पालन, सिलाई कढाई  मोमबत्ती बनाना, झाडू बनाना, उद्यमिता विकास , डेयरी फार्मिग एवं वर्मी कम्पोंज्ञट, ब्यूटी पार्लर आर्टिफिशियल ज्वैलरी मेकिग आयोजित कर बेरोजगार ग्रामीणों को आत्मनिर्भर बनाने का प्रयास किया जा रहा है ओर प्रशिक्षण पूर्णतया निःशुल्क प्रदान किया जाता है 

इस अवसर पर समूह सखी रीना देवी समूह सखी आशा देवी ने उपस्थित महिला सदस्यों को बैठक के महत्व और पंचसूत्र पर विस्तार से चर्चा की और आरसेटी से प्रशिक्षण लेने हेतु प्रेरित किया 

इस दौरान आरसेटी द्वारा प्रशिक्षित  सुमन देवी  ने अपने विचार रखे  और कहा कि आत्मनिर्भर होने के साथ-साथ  महिलाओं को प्रेरणा प्रदान कर रही है . मनोवैज्ञानिक टावर बिल्डिंग गेम के माध्यम से  स्वावलंबन अपनाने हेतु और दूसरों पर निर्भर ना रहने हेतु प्रेरित किया गया।