ठिठरती सर्दी मे पीडित परिवार बच्चो को लेकर  खुले आसमान के नीचे रहने को मजबूर

बेहट/सहारनपुर

बताते चलें कोतवाली बेहट के जमालपुर निवासी मुनव्वर जोकि बीती रात्रि अपने बच्चों के साथ छप्पर नुमा मकान के नीचे खाना पानी खा कर सो रहे थे!



रात्रि 2 बजे के लगभग रात मे अचानक छोटी बच्ची के ऊपर आग की लाव लगी तभी उसने शोर मचाकर अपने पिता को उठाया अचानक छप्पर जलने लगा जब तक मुनव्वर कुछ समझ पाते तब तक पूरे छप्पर को आग ने अपनी लपेट में ले लिया मुनव्वर अपने बच्चों को लेकर किसी तरह से छप्पर के नीचे से भागे
आग इतनी भयानक थी थोड़ी ही देर में विकराल रूप धारण करलिया गनीमत रही परिवार बाल बाल बच पाया
शोर मचाया जिससे मोहल्ले के लोगों ने आकर बड़ी मशक्कत के साथ आग को काबू किया लेकिन क्या था
जब तक घर मे रखा खाने पीने का सामान अनाज चावल कपडे बिस्तर चारपाई जलकर राख़ होगई

पीडित मुनववर मजदूर किस्म का गरीब आदमी है जोकी मजदूरी करके परिवार का पालन करता है उसके पास इतनी हिम्मत नही है जो अपना घर बनासके पीड़ित मुनववर से सरकार मदद की गुहार लगाई है