गलियों में भरे पानी के कारण ग्राम वासियों का घरों से निकलना हुआ दूभर

रिपोर्ट अफजल अली/नफीस थानवी

बेहट (सहारनपुर) 

बेहट तहसील के विकासखंड साढोली कदीम मे कई ग्राम पंचायतों में सफाई व्यवस्था ने सफाई कर्मियों की पोल खोल कर रख दी है कई ग्राम पंचायतों का इतना बुरा हाल है कि यहां प्रत्येक गली मोहल्ले में गंदगी के ढेर लगे हुए हैं सड़कों पर गंदा पानी जमा हो रहा है जिससे संक्रमण का खतरा पैदा हो रहा है एक तरफ जहां सरकार कोरोना काल को लेकर लगातार सफाई अभियान व सैनिटाइजिंग की ओर लगातार कदम बढ़ा रही है वहीं विकास खण्ड साढोली के कई ग्राम पंचायतों में सफाई कर्मियों की लापरवाही सामने आई है ग्राम वासियों के अनुसार सफाईकर्मी सुबह 11:00 बजे ग्राम पंचायत में पहुंचते हैं और 2 बजते ही फुर्र हो जाते हैं।
साढोली कदीम क्षेत्र के ग्राम शेखपुरा में सफाई व्यवस्था पूर्ण रूप से चौपट है जिसके कारण प्रत्येक गली मोहल्ले में सड़कों पर गंदा पानी जमा है।
मिली जानकारी के अनुसार क्षेत्र के हरिपुर पाडली ग्रंट  इत्यादि दर्जनों ग्राम पंचायतों में सफाई कर्मियों की तैनाती ही नहीं है।
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार विकासखंड साधौली कदीम क्षेत्र की ग्राम पंचायत आलमपुर के मुख्य मार्ग की स्थिति निहायत खराब है ज्ञात हो कि यह मार्ग आलमपुर गांव को तहसील के मुख्य मार्ग से जोड़ता है ग्राम वासियों का इस मार्ग से रोजाना गुजर होता है रास्ते में पानी भरे होने के कारण ग्राम वासियों का इस रास्ते से निकलना मुश्किल हो गया है ग्राम वासियों का कहना है कि विभाग इस तरफ कोई ध्यान नहीं दे रहा है
एक तरफ जहां देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत प्रत्येक ग्राम पंचायत में मोटी रकम खर्च कर अभियान को सफल बनाने के दावे कर रहे हैं एवं कोरोना काल में  संक्रमण  से बचाव के लिए  सफाई व्यवस्था पर ध्यान लगाए हुए हैं।
वही कुछ सफाईकर्मी सरकार की छवि को धूमिल करने में जरा भी गुरेज नहीं कर रहे हैं। बल्कि ग्राम पंचायतों में अपनी मर्जी के मुताबिक घंटा दो घंटा सफाई कर औपचारिकता पूरी कर रहे है।