उत्तराखण्ड वापसी के लिए इस लिंक पर जाएं, ऐसे भरे फार्म

बुधवार को भारत सरकार गृहमन्त्रलय द्वारा जारी निर्देश से प्रवासी छात्रों, मजदूरों व तीर्थयात्रियों को अपने राज्य लाने की छूट मिलने के बाद, उत्तराखण्ड सरकार ने इस दिशा में कार्य शुरू कर दिया है। इसके लिए मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने बुधवार देर शाम मुख्य सचिव को दूसरे राज्यों में फंसे प्रवासियों का विवरण जुटाने के निर्देश दिए हैं।


मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने कहा कि अधिकांश प्रवासी तो उत्तराखंड लौट आए हैं, फिर भी करीब डेढ़ हजार और लोगों ने घर आने के लिए राज्य सरकार से संपर्क किया है। इसके चलते सरकार अब अन्य राज्यों में फंसे उत्तराखंड के लोगों की जानकारी जुटा रही है।
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने कहा कि बाहरी प्रदेशों में फंसे उत्तराखंडवासियों की जल्द वापसी की तैयारी के निर्देश मुख्य सचिव को दिए हैं। मैं विश्वास दिलाता हूं, बाहर फंसा जो भी उत्तराखंडी अपने राज्य लौटना चाहता है, उसकी वापसी के लिए सभी मानकों के अनुसार उचित प्रबंध किए जाएंगे।
अब लोगों को उत्तराखण्ड वापस लाने के लिए अभियान चलाया जा रहा है। इसके लिए आईएएस शैलेश बगौली को इसकी जिम्मेदारी दी गई है।
सर्वप्रथम राहत शिविरों में रह रहे लोगों को उत्तराखण्ड लाया जाएगा और फिर और सभी लोगों को भी वापस लाया जाएगा।
घर वापसी के लिए रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया भी शुरू हो गई है। अब जो भी बाहरी राज्यों से उत्तराखण्ड लौटना चाहते हैं, उन सभी को स्मार्ट सिटी का फॉर्म भरना होगा।
साथ ही इस लिंक पर अपना पूर्ण विवरण भराना होगा—
http://dsclservices.in/uttarakhand-migrant-registration.php
उसके बाद इन लोगों को नोडल अधिकारियों की मदद से स्क्रीनिंग व जांच की जाएगी।
यदि उनकी कोरोना रिपोर्ट निगेटिव निकली तो उन्हें उत्तराखण्ड लाया जाएगा।
यहां लाने के बाद उन्हें 14 दिनों के लिए क्वारंटीन किया जाएगा।
http://dsclservices.in/uttarakhand-migrant-registration.php


लिंक पर जाने के बाद आपको “प्रवासी यात्री पंजीकरण (COVID-19)” दिखेगा–



इसके बाद उत्तराखण्ड सरकार आपको अन्य राज्य से घर वापसी का कार्य शुरू करेगी।