कोरोना वायरस संक्रमण के चलते ड्यूटी और रोजा का निभा रहे फर्ज

✍रिपोर्ट:- अब्दुल बारी राईन



छुटमलपुर/सहरानपुर 

थाना फतेहपुर (मुजफ्फराबाद) पुलिस की खाकी वर्दी अपने फर्ज के लिए तो जानी जाती है, लेकिन पवित्र माह रमजान में खाकी कर्म के साथ ही धर्म पर भी कुर्बान है।

कोरोना योद्धा बन मुस्लिम पुलिसकर्मी रोजा रखते हुए ड्यूटी निभा रहे हैं। इस बार कोरोना महामारी ने इनके इम्तिहान को और कड़ा कर दिया है, लेकिन जवान रहमत के माह का करिश्मा मान रहे हैं। कहते हैं कि अल्लाह धर्म और कर्म के पथ पर चलने की ताकत बख्श रहा है। एक ऐसे ही रोजेदार सिपाही धर्म के साथ कर्म पथ पर भी डटे हुए हैं।

थाना फतेहपुर की चौकी मुजफ्फराबाद में तैनात बागपत निवासी शान मौहम्मद बताते हैं कि 2011 से नौकरी करते हुए रोजा रख रहे हैं। अपनी ड्यूटी को ईमानदारी से अंजाम देना भी इबादत है। रोजा के जरिए हमें लोगों की भूख और प्यास का अहसास होता है। इस रमजान कड़ा इम्तिहान जरूर है,


मगर यह इम्तिहान फर्ज और धर्म के आगे छोटा है। इस बार कोरोना ने इम्तिहान को और कड़ा कर दिया है। अल्लाह से दुआ कर रहे हैं कि संक्रमण का दौर जल्द खत्म हो हमें खुद से ज्यादा समाज की चिता है।